गुरुवार, 9 दिसंबर 2010

मैं एक ईमानदार भ्रष्टाचारी हूँ !

भाई साहब मैं मर जाऊंगा
मेरी धड़कनें रुक जायेंगी
सांस लेना मुश्किल हो जाएगा
मेरी बीवी घर से निकाल देगी
शान-सौकत सब चली जायेगी
किसी को मुंह दिखाने के लायक नहीं रहूँगा
मुझे करने दो, थोड़ा-बहुत ही सही
पर मुझे भ्रष्टाचार कर लेने दो !

मैं भ्रष्ट हूँ, भ्रष्टाचारी हूँ
इरादतन भ्रष्टाचार का आदि हो गया हूँ
आज तक एक भी ऐसा काम नहीं किया
जिसमे भ्रष्टाचार किया हो
लोग मेरे नाम की मिसालें देते हैं
मुझे जीने दो, मेरी हाय मत लो
मेरी हाय तुम्हें चैन से बैठने नहीं देगी
क्यों, क्योंकि मैं एक ईमानदार भ्रष्टाचारी हूँ !

मेरी नस नस में भ्रष्टाचार दौड़ रहा है
दिल की धड़कनें भ्रष्टाचार से चल रही हैं
मान लो, मेरी बात मान लो
मुझे, सिर्फ मुझे, भ्रष्टाचार कर लेने दो
तुम हाय से बच जाओगे
और मेरी दुआएं भी मिलेंगी
यही मेरी पहली और अंतिम अर्जी है
क्यों, क्योंकि मैं एक ईमानदार भ्रष्टाचारी हूँ !
.............................

8 टिप्‍पणियां:

Suman ने कहा…

nice

M VERMA ने कहा…

हर भ्रष्टाचारी ईमानदार होता है

Vivek Rastogi ने कहा…

वाह ईमानदार भ्रष्टाचारी जी, क्या बात है।

वन्दना ने कहा…

जय हो ईमानदारी की फिर तो……………गहरा कटाक्ष।

नरेश सिह राठौड़ ने कहा…

बहुत अच्छी लगी आपकी ये ईमानदारी |

संजय कुमार चौरसिया ने कहा…

bahut badiya janaab,

Harman ने कहा…

Each age has deemed the new born year
The fittest time for festal cheer..
HAPPY NEW YEAR WISH YOU & YOUR FAMILY, ENJOY, PEACE & PROSPEROUS EVERY MOMENT SUCCESSFUL IN YOUR LIFE.

Lyrics Mantra

bilaspur property market ने कहा…

नस नस में भ्रष्टाचार दौड़ रहा है

Table Of Contents