सोमवार, 22 फ़रवरी 2010

बस एक चित्र


सिर्फ एक चित्र । शब्द क्यों नहीं ? तारीफ में कम पड़ेंगे इसलिए ।

5 टिप्‍पणियां:

डॉ महेश सिन्हा ने कहा…

वाह, इस जज्बे को सलाम

बी एस पाबला ने कहा…

वाह!

बी एस पाबला ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

....इस जज्बे कि जितनी भी तारीफ़ की जाये कम है !!!!

Udan Tashtari ने कहा…

सार्थक प्रयास! साधुवाद!

Table Of Contents